<

ईद का त्यौहार क्यों मनाया जाता हैं ?

नमस्कार दोस्तों, हिंदी अपडेट (Hindi Update) में आपका स्वागत हैं | हम यहाँ पर आप सभी लोगों के लिए सारी जानकारी हिंदी में लेकर उपस्थित हुए हैं | दोस्तों आज हम आपको “ईद का त्यौहार क्यों मनाया जाता हैं ?” के बारे में बताने जा रहे हैं अगर आपको ईद के बारे में पूरी जानकारी चाहिए तो हमारे इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़े | हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से इसके बारे में पूरी जानकारी प्रदान करेंगे |

मुस्लिमों का सबसे बड़ा त्यौहार होता हैं ईद, ईद का अर्थ ही होता है जश्न मनाना या ख़ुशी मनाना | इस दिन को लोग ईद-उल-फितर भी कहते हैं | मुस्लिम भाइयों का सबसे बड़ा त्यौहार ईद इस बार 23 मई या 24 मई को मनाया जायेगा | उस दिन मस्जिद में जाकर नमाज़ अदा की जाती हैं और एक दूसरे से गले मिलकर ईद की मुबारकबाद दी जाती हैं |

यह त्यौहार भाईचारे को बढ़ावा देने वाला और बरकत के लिए दुआएं मांगने वाला हैं | यह त्यौहार अपने देश के साथ-साथ पूरी दुनिया में धूम धाम से मनाया जाता हैं क्योंकि मुस्लिमों की आबादी पूरी दुनिया में बहुत ज्यादा हैं | ईद के समय में बाजारों में भी खूब रौनक देखने को मिलती हैं | चलिए जानते हैं की ईद का त्यौहार क्यों मनाया जाता हैं |

ईद क्यों मनाई जाती हैं ?

ऐसी मान्यता हैं की पैगम्बर हज़रत मुहम्मद ने बद्र की लड़ाई में जीत हासिल की थी, और इस जीत की ख़ुशी में मीठा पकवान बनाकर सभी का मुँह मीठा करवाया गया था | इसी ख़ुशी में इस इस दिन को ईद-उल-फितर के रूप में मनाया जाता हैं | इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार पहली बाद ईद 624 ई० में मनाई गयी थी |

रमजान के पुरे महीने रोज़े रखने के बाद उसके ख़त्म होने की ख़ुशी में ईद के दिन कई प्रकार के पकवान बनाये जाते हैं | उस दिन सुबह उठकर नए कपडे पहनकर ईदगाहों और मस्जिदों में नमाज़ अदा की जाती हैं और अल्लाह का शुक्र अदा किया जाता हैं की उन्होंने पुरे महीने रोज़ा रखने की शक्ति हमें दी |

मदद और सद्भाव का पैगाम देता है यह त्यौहार;-

ईद-उल-फितर का त्यौहार सबको साथ लेकर चलने के लिए जाना जाता हैं | ईद के दिन हर मुसलमान एक साथ नमाज़ पढ़ते हैं और एक दूसरे से गले मिलते हैं | इस्लाम में जकात महत्वपूर्ण पहलु हैं | जिसमे हर मुसलमान को भोजन, कपडे या धन के रूप में कुछ न कुछ दान करने के लिए कहा गया हैं |

कुरान में जकात-अल-फ़ित्र को जरुरी बताया गया हैं | सभी हैसियतमंद मुसलमानों का फ़र्ज़ होता हैं की वह जरूरतमंदों को दान करें | इसको रमजान के अंत में और ईद की नमाज़ पढ़ने से पहले दिया जाता हैं |

ईद कैसे मनाई जाती है ?

ईद की शुरुआत सुबह दिन की पहली अज़ान के साथ शुरू होती है। जिसको सलात अल-फज्र भी कहते हैं। इसके बाद पूरा परिवार कुछ न कुछ मीठा खाता है। वैसे खासतौर पर ईद में खजूर खाने की परंपरा है। और फिर नए कपड़ें पहन कर ईद की नमाज अदा की जाती है। ईद के त्यौहार को मीठी ईद भी कहते हैं | क्योंकि इस दिन सेवइयों और खीर से लोग एक-दूसरे का मुंह मीठा कराते हैं |

  
कैसे मनाई जाती हैं मीठी ईद ?

ईद के दिन घरों में खास तौर पर दूध वाली सेवइयां, शीर और किमामी सेवइयां बनायीं जाती हैं, और इन्हे एक दूसरों के घरों में भी बाटा जाता हैं | नए कपड़ें पहने जाते हैं और बच्चों को ईदी अथवा तोहफे दिए जातें हैं | 

  
दो ईद होती हैं ?

इस्लाम धर्म में दो ईद मनायी जाती हैं | पहली होती हैं मीठी ईद, जिसको रमजान महीने की आखिरी रात के बाद मनाया जाता हैं | दूसरी ईद रमजान माह ख़त्म होने के 70 दिन बाद मनाई जाती हैं, जिसे बकरीद कहते हैं |

 बकरीद को क़ुरबानी की ईद माना जाता हैं | पहली ईद को ईद-उल-फितर कहा जाता हैं तथा दूसरी ईद को ईद-उल-जुहा कहा जाता हैं |

रमजान इस्लामी कैलेंडर का नौवां महीना हैं | इस पुरे माह में रोज़े रखे जाते हैं | इस माह के ख़त्म होते ही 10वां माह सौवाल शुरू होता हैं, और इस माह की पहली चाँद रात ईद की रात होती हैं |

इस रात का वर्षभर इंतजार खास वजह से होता हैं, क्योंकि इस रात को दिखने वाले चाँद से ही इस्लाम के बड़े त्यौहार ईद-उल-फितर का एलान होता हैं |

मुसलमान ईद के दिन अल्लाह का शुक्रिया अदा करते है कि उन्होंने महीनेभर उपावस रखने की ताकत दी। ईद पर एक खास रकम जिसे जकात कहते हैं जो गरीबों, असहाय और जरूरतमंदों के लिए निकाल दी जाती है। 

इस प्रकार से यह चांद ईद का पैगाम लेकर आता है। उस चांद रात को ‘अल्फा’ भी कहा जाता है। जमाना चाहे कितना बदल जाए, लेकिन ईद जैसा त्योहार हम सभी को अपनी जड़ों की तरफ वापस खींच लाता है और यह अहसास कराता है कि पूरी मानव जाति एक है और इंसानियत ही उसका मजहब है।


वर्ष 2020 में ईद कब हैं ?

वर्ष 2020 में ईद का त्यौहार 23 मई या 24 मई को मनाया जायेगा | 

निष्कर्ष (Conclusion) 

हमने इस पोस्ट में आपको “ईद का त्यौहार क्यों मनाया जाता हैं ?” के बारे में बताने का प्रयास किया | मुझे उम्मीद है की आपको मेरा यह लेख जरूर पसंद आया होगा | अगर आपके मन में इस Article को लेकर कोई भी Doubts है या आप चाहते है की इसमें कोई सुधार हो तो आप हमें नीचे दिए Comment करके बता सकते हैं | जहाँ पर आपकी परेशानी को हल करने की कोशिश हमारी पूरी टीम करेगी | अगर आपको हमारा पोस्ट पसंद आया तो आप हमारी इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा Social Media पर Share भी कर सकते हैं | 

Hindi Update

https://www.hindime4u.in नमस्कार दोस्तों, मैं स्नेहिल हिंदी अपडेट (Hindi Update) का संस्थापक हूँ, Education की बात करूँ तो मैं Graduate हूँ, मुझे बचपन से ही लिखने का काफी शौक रहा हैं इसलिए यहाँ पर मैं नियमित रूप से अपने पाठकों के लिए उपयोगी और मददगार जानकारी शेयर करता रहता हूँ |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!